What is Cibil Score ? क्या होता है सिबिल स्कोर ?

What is Cibil Score ?

क्या होता है सिबिल स्कोर ?

CIBIL-Score-India

जानिए क्या होता है, CIBIL Score 

आज सभी को अपना व्यापार शुरू करने, घर खरीदने, कार खरीदने, बाइक खरीदने, उपकरण खरीदने या अन्य कई कारणों से बैंक या अन्य वित्तीय संस्थानों से लोन लेने की आवश्यकता होती  हैं | कुछ लोगों को आसानी से लोन मिल जाता है, कुछ लोगों को दिक्कत होती है, और कुछ को लोन मिल ही नहीं पता | लेकिन, क्या आपने कभी यह सोचा है, की किस आधार पर यह तय होता है, कि किसे लोन मिलेगा और किसे नहीं यह निर्भर करता है आपके Cibil Score पर  |

लोन मिलेगा या नहीं, ये निर्भर करता हे आपके CIBIL Score पर, सिबिल स्कोर ही तय करता है, किसको लोन मिलेगा है, किसे लोन नहीं मिलेगा है | तो आइए जानते हैं कि सिबिल स्कोर होता क्या है ? पहला प्रश्न यह उठता है की सिबिल क्या होता है और सिबिल स्कोर की संख्या कैसे निर्धारित करती है कि लोन दिया जाना चाहिए या नहीं | 

CIBIL-Score-India

पहला सवाल – सिबिल स्कोर क्या है ?

Credit Information Bureau (India) Limited – ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड भारत की पहली क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी है, जिसे सामान्य रूप से क्रेडिट ब्यूरो कहा जाता है, इसका कार्य उपभोक्ताओं की फाइनेंशियल एक्टिविटी कि जानकारी बैंक और फाइनेंसियल संस्था उपलब्ध कराना है |

जिसके माध्यम से उपभोक्ताओं को जल्दी से और आसान शर्तो के साथ कम ब्याज पर ऋण मिल सके, ट्रांसयूनियन लिमिटेड कम्पनी के पास दो हज़ार चार सौ से अधिक सदस्य हैं, जिनमें बड़े बैंक, वित्तीय कंपनियां, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियां और हाउसिंग फाइनैंस कंपनियां शामिल हैं, साथ ही कंपनी के पास पाँच सौ मिलियन से अधिक व्यक्तियों और वित्तीय संस्थाओं के क्रेडिट रिकॉर्ड है |

CIBIL-Score-India

दूसरा सवाल – सिबिल स्कोर का निर्धारण कैसे होता है ? 

इसके लिए कंपनी एक पेचीदा अल्गोरिथम का इस्तेमाल करती है, जिसमें जो व्यक्ति या संस्था लोन लेने का इच्छुक है, उसके पिछले छह महीने की वित्तीय रिपोर्ट देखी जाती है, और उसके फाइनैंशल डेटा का अध्ययन किया जाता है, इसके बाद कुछ फैक्टर जैसे समय पर लोन अदायगी, क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान को ध्यान में रखते हुए उसके लिए स्कोर निर्धारित किया जाता है |

किसी व्यक्ति का स्कोर अच्छा तभी हो सकता है, जब वो समय से अपने लोन की किस्त भरता रहे, अपने क्रेडिट कार्ड का भुगतान करता रहे, ध्यान रहे कि इस स्कोर में आपकी बचत, निवेश या फिक्स डिपोजिट का ब्यौरा शामिल नहीं होता है |

Loan-process

तीसरा सवाल – सिबिल कैसे काम करता है ? 

आप के टाइम पर लोन भरने और आपके क्रेडिट कार्ड से भुगतान के रिकॉर्ड को बैंको और अन्य वित्तीय संस्था द्वारा मासिक आधार पर सिबिल संस्था के पास जमा किया जाता है, इस जानकारी का उपयोग करके क्रेडिट इन्फॉर्मेशन रिपोर्ट तथा क्रेडिट स्कोर बनाया जाता है |

जिसकी बदौलत लेंडर्स लोन आवेदनों का मूल्यांकन और स्वीकृति प्रदान करते हैं | क्रेडिट ब्यूरो को आरबीआई द्वारा अनुमोदित किया गया है और इन्फोर्मेशन कम्पनी एक्ट 2005 द्वारा चलाया जाता है, सिबिल स्कोर लोन आवेदन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, आवेदक द्वारा आवेदन पत्र भरने, और उसे कर्जदाता को सौंपने की बाद कर्जदाता पहले आवेदक की क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट रिपोर्ट की जांच करता है|

यदि क्रेडिट स्कोर कम है तो कर्जदाता शायद आगे आवेदन पर विचार भी ना करें और उसी उसी क्षण उसे अस्वीकृत कर दें, यदि क्रेडिट स्कोर अच्छा हैं तो करदाता क्रेडिट देने पर यानि कर्ज देने पर विचार करता है, यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है कि स्कोर जितना अधिक होगा लोन स्वीकृत होने की संभावना भी उतनी ही अधिक होती है |

अधिक स्कोर होने पर ब्याज निर्धारण में भी फायदा होता हे, कर्ज देने का निर्णय केवल कर्जदाता पर निर्भर होता है, लोन या क्रेडिट कार्ड स्वीकृति हो या ना हो, इस पर सिबिल कोई फैसला नहीं करता |

Credit-Card-Loan

चौथा सवाल – कितना सिबिल स्कोर अच्छा माना जाता है ? 

सिबिल स्कोर की निर्धारित सीमा 300 से 900 अंक के मध्य होती हे | अच्छा सिबिल स्कोर 750 या उससे आधिक की सीमा में माना जाता है, यदि आपका स्कोर 750 अंक या उससे अधिक है तो बैंक और अन्य गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियां आपको आसानी से लोन देगी, लेकिन यदि आप का स्कोर सात सौ पचास से कम है तो आपको लोन देने में बैंक आनाकानी कर सकता है |

क्योंकि इससे कम स्कोर पर लोन देना जोखिम भरा होता है, यानी कि जिसका सिबिल स्कोर जितना ज्यादा होगा उसको लोन मिलने की संभावनाओं पर विचार होगा |

पांचवा सवाल – सिबिल स्कोर को कैसे सुधारा जा सकता है ? 

आप कुछ आसान तरीकों से अपने स्कोर को सुधार सकते है, जैसे हमेशा लोन की राशि को समय पर अदा करें, क्रेडिट कार्ड के अधिक उपयोग से बचें, अपने लोन में सुरक्षित और असुरक्षित दोनों प्रकार लोन का समावेश करें, लोन लेने के लिए हमेशा जल्द्बाजी में ना रहें, इससे आपकी इमेज हमेशा कर्जे में रहने वाले व्यक्ति के रूप में बन जाती है |

प्रिय पाठक, उम्मीद है, आपके लिये इस लेख मै CIbil Score के बारे में दी गयी जानकारी  उपयोगी होगी | कृपया कमेंट एवं शेयर अवश्य करें | धन्यवाद

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *